www.ojosgujarat.in

Friday, September 22, 2017

Mrityu ke baad kya hota hai janane ke liye Read kare

        आज हम  आपके लिये  ऐक ख़ास  प्रकार कि  बात लेकर  आये  वो  बात  आप  ने  कभी  नहीं  सुनी  होगी।  सब  के  मन  में  एक  प्रश्न  होता  हे  के  आदमी  का  मरने  के  बाद  क्या  होता   हे  प्रश्न  सबके  मन  में  हे ,तो  हम  आज  उस  प्रश्न  का  थोड़ा जवाब  लेके  आये  हे। सिंगापुर में  जन्मी  हुए एक  महिला  की  हम  स्टोरी  बता  रहे  उसमे  मृत्य  के  बाद  क्या  उस का  सही जवाब ऐ महिला  ने  दिया  हे। तो  आये  हम  उसकी  स्टोरी  पढ़े 


         अनीता मूरजानी  नाम  की  भारतीय  महिला  हे वो  दावा कर रही  हे मेने  मृत्यु  का  देश  देख  कर  वापस  आयी  हु।  उस  महिला  ने  अपनी  ऐ  बात  उसके  पुष्तक " डाइंग  टु  बी  मी " में  बताय  हे।  अनीता  मूरजानी का  ऐ  पुस्तक  अंग्रेजी  भाषा में  हे। अनीता  मूरजानी का  यूट्यूब  में  भी  बहुत  पॉप्युलर  वीडीओ हो  चूका  हे। 
         मृत्यु  के  प्रदेश  में  घूम  के  वापस  आने  वाली अनीता  मूरजानी    ५ ८   साल  की  हे।  अनीता  को  कैंसर  की पेट में  खरनाक  बीमारी  हुए  थी। उस  बीमारी  से  अनीता  को  हॉस्पिटल  लाया  गया  था  वहा  डॉक्टर  ने   अनीता  का  कैंसर  देखा  पेट  में  बहुत  गांठ  हो  चुकी  थी  डॉक्टर  ने  उसको  को  कोमा  में  रखा  लेकिनी  कैंसर  की  गांठे  बहुत  ही  ज्यादा  हो  चुकी  थी  यानी  की  अनीता जी  को  बचाने  में  डॉक्टर  नाकामियाब  रहे। डॉक्टर  ने  उसे  मृत  जाहेर  कर  दिया।  लेकिन  अनीता जी  का  पत्ती  ने  इतनी  जल्दी  हिम्मत  न  हारि  उसने  डॉक्टर  को  बोला  की  तुम  कोमा में  रखो  .और  उसकी  बात  सुनके  डॉक्टर  ने  भी  अनीता जी  को  कोमे में  रखा  और  अनीता जी  पुनः  वापस  आ  गए  और  उस  अनीता जी  को  पेट में  खतनाक  कैंसर की  गांठे  थी  वो  भी  चली  गए।  ऐ  देख  के  डॉक्टर  भी  हैरान  हो  गये  की  इतनी  खतर नाक  पेट  की  गांठे  चली  कहा  गयी  ? डॉक्टर  ने  उसके  उपर  सर्च  भी  किया  लेकिन  कुछ  हाथ  ना  आया।  डॉक्टर  ने  देखा  तो  कैंसर  की  खतरनाक  बीमारी  अब  अनीता  के  सरीर  में  नहीं  हे  और  अनीता जी  को  मृत्यु  के  देश  में  क्या  क्या  हुवा  था  ऐ  सब  उसने  अपनी  पुस्तक " डाइंग  टु  बी  मी " में बताया  हे  अनिताजी  को  बहुत  सारे  अलौकिक  दुनिया  का  अनुभव  भी  हुवा  था।  और  डॉक्टर  को  भी  मान ने  में  नहीं  आ  रहा  हे  की  इतनी  खतनाक  बीमारी  चली  कैसे  गए। 
अनीता  जी  के  बारे  में  जयादा  जान  ने  के  लिए  उसके  पुस्तक  को  पढ़े  तब तक  हमें  रजा  दे  हम  फिर  ऐसी  रियल  स्टोरी  को  अपनी  पोस्ट में  डालेंग। हमारी  स्टोरी  किसी  लगी  ऐ  आप  हमें  comment  के  माध्यम  से  बता  सकते  हो
                 

No comments:

Post a Comment